इस प्रकार हमें 10 रूपए मूल्य पर निफ़्टी का एक लॉट खरीदने के लिए 776. 74 रूपए चुकाने होंगें।

बायनेन्स लाइट पर P2P ट्रेडिंग के माध्यम से क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) कैसे बेचें?

बायनेन्स लाइट उपयोगकर्ताओं को 150 से अधिक भुगतान के तरीकों के साथ P2P ट्रेडिंग के माध्यम से क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) बेचने की अनुमति देता है। P2P ट्रेडिंग कैसे बेचें? ट्रेडिंग का उपयोग करके, आप अन्य बायनेन्स उपयोगकर्ताओं को आसानी से क्रिप्टो बेच सकते/सकती हैं।

शुरू करने के लिए, अपना बायनेन्स मोबाइल एप खोलें और लॉग इन करें। इस गाइड के लिए, हम बायनेन्स लाइट मोड का उपयोग करेंगे। आप ऊपरी बाएं कोने में खाता आइकन पर क्लिक करके और फिर बायनेन्स लाइट टॉगल बटन का उपयोग कर हमारे बायनेन्स ट्रेडिंग कैसे बेचें? लाइट या प्रो संस्करण पर स्विच कर सकते/सकती हैं।

किसी भी क्रिप्टो को बेचने से पहले, सुनिश्चित करें कि आपने हमारी SMS सत्‍यापन और KYC पहचान सत्यापन प्रक्रिया पूरी कर ली है। होम पेज पर, स्क्रीन के नीचे [व्यापार] टैब चुनें।

शेयर कैसे खरीदे और बेचे जाते हैं

शेयर कैसे खरीदे और बेचे जाते हैं

शेयर मार्केट में शुरुआती दिनों में निवेश ₹ 5000 से ₹10000 के बीच करना चाहिए शेयर खरीदने और बेचने का तरीका और शेयर मार्केट की जानकारी होने के बाद निवेश की राशि बढ़ा सकते हैं .

यदि आप शेयर खरीदते और बेचते हैं तो आप मुनाफा कमा सकते हैं लेकन उसके लिए आपको शेयर मार्केट की जानकारी होना अति आवश्यक है मौजूदा समय में शेयर बाजार में लोग निवेशकर रहे हैं

शेयर बाजार जोखिमों के अधीन होता है यदि बाजार में गिरावट आई तो द्वारा खरीदे गए शेयरों में पैसे घटने के आसार बढ़ जाते हैं और यदि बाज़ार में बढ़त है तो आपके शेयर आपको मुनाफा देंगे

शेयर बाजार में क्या है कमोडिटी ट्रेडिंग, जानिए कैसे करते हैं खरीद-बेच, कितना फायदेमंद

commodity trading

  • News18Hindi
  • Last Updated : May 06, 2021, 09:25 IST

मुंबई. जिस तरह से हम अपनी रोजमर्रा की जरुरतों के लिए कोई वस्तु यानी कमोडिटी (commodity) जैसे अनाज, मसाले, सोना खरीदते हैं वैसे ही शेयर बााजार (share market) में भी इन कमोडिटी की खरीद बेच होती है. शेयर बााजार के कमोडिटी सेक्शन में इनकी ही खरीद बेच को कमोडिटी ट्रेडिंग (commodity trading) कहते हैं. यह कंपनियों के शेयरों यानी इक्विटी मार्केट की ट्रेडिंग से थोड़ी अलग होती है. कमोडिटी की ट्रेडिंग ज्यादातर फ्यूचर मार्केट में होती है. भारत में 40 साल बाद 2003 में कमोडिटी ट्रेडिंग पर लगा प्रतिबंध हटा लिया गया था.

Stock Market: शेयर बेचने के अगले दिन बैंक अकाउंट में आएगी रकम, निवेशकों के लिए गुड न्यूज

stock-Exchange_60ae30d3a3a47

  • पहले शेयर बेचने के बाद अगले 2 कारोबारी दिन में आपके बैंक अकाउंट में पैसे आते थे।
  • BSE/NSE कम अवधि में निपटान वाले टी प्लस वन सेटलमेंट साइकिल को अपना सकते हैं।
  • टी प्लस वन सेटलमेंट सिस्टम से शेयर कारोबारियों और निवेशकों को काफी फायदा होने की उम्मीद है।

क्या होता है ट्रेडिंग कैसे बेचें? सेटलमेंट साइकिल?
अगर आप शेयर बाजार में ट्रेडिंग करते हैं तो आपको सेटलमेंट साइकिल के बारे में जरूर पता होगा। शेयर बाजार में पैसों के लेनदेन की व्यवस्था बैंक या अन्य वित्तीय संस्थान से अलग होती है। बैंक या अन्य पेमेंट सिस्टम से पैसा ट्रांसफर या लेन देन होते ही आपके खाते में तुरंत पहुंच जाता है, लेकिन शेयर बाजार में ऐसा नहीं होता। इस समय शेयर बाजार टी प्लस टू सेटलमेंट साइकिल पर काम करता है।

T+2 सेटलमेंट

अगर आज आपने कोई शेयर खरीदा है तो शेयर आपके डीमैट अकाउंट में ट्रेडिंग डे के तीसरे दिन या ट्रेडिंग डे के दो दिन बाद पहुंचता है। इसी तरह अगर आपने कोई शेयर बेचा है तो उसका पैसा आपके बैंक खाते में ट्रेडिंग के 2 दिनों के बाद पहुंचता है। इसे सेटलमेंट साइकिल कहते हैं।

कॉन्ट्रैक्ट्स (Contracts)

निफ़्टी में ऑप्शन ट्रेडिंग (Option Trading ) के अंतर्गत कॉल CE और पुट PE दो प्रकार के कॉन्ट्रैक्ट ख़रीदे और बेचे जाते है।

निफ़्टी के वर्तमान स्तर से ऊपर के जितने भी कॉन्ट्रैक्ट होते है उन्हें कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट कहते है इसी प्रकार निफ़्टी के वर्तमान स्तर से निचे के जितने भी कॉन्ट्रैक्ट होते है उन्हें पुट PE कॉन्ट्रैक्ट्स कहते हैं।

कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट (Call Contracts)

मान लेते है की वर्तमान में निफ़्टी 9000 के स्तर पर है और हमें लगता है की निफ़्टी अगले कुछ दिनों में 9500 का स्तर छू सकता है तो हम आज ही 9500 के स्तर (Strike: निफ़्टी में स्तर या लेवल को Strike कहतें है) का कॉन्ट्रैक्ट (कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट) खरीद सकते है जो की आज हमें कम दाम में मिलेगा और जब निफ़्टी 9500 का स्तर (Strike) छू लेगा तो हमारे CE कॉन्ट्रैक्ट का मूल्य बढ़ जायेगा, जिसे बेच कर हम बहुत अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

लॉट (LOT )

निफ़्टी के कॉन्ट्रैक्ट 75 की लॉट में ख़रीदे और बेचे जाते है, अर्ताथ हम केवल एक कॉन्ट्रैक्ट खरीद या बेच नहीं सकते हमें निफ़्टी में ट्रेडिंग करने के लिए कम से कम 75 कॉन्ट्रैक्ट एक साथ खरीदने और बेचने पड़ते है।

इस प्रकार मान लेते है की यदि निफ़्टी के एक कॉन्ट्रैक्ट का मूल्य 6.75 रूपए है तो हमें एक लॉट खरीदने के लिए 75 x 6.75 = 506.25 रूपए का मूल्य चुकाना पड़ेगा।

75 से अधिक कॉन्ट्रैक्ट खरीदने और बेचने के लिए हमें उसी हिसाब से अधिक लॉट खरीदने पड़ते है, जैसे 2 लॉट में 150 कॉन्ट्रैक्ट और 3 लॉट में 225 कॉन्ट्रैक्ट्स, और इसी तरह हर लॉट के साथ 75 के गुणांक में कॉन्ट्रैक्ट्स की संख्या बढ़ती जाती है।

एक्सपायरी (Expiry)

निफ़्टी के सभी कॉन्ट्रैक्ट्स की एक्सपाइरी डेट होती है जो की समान्यतः एक हफ्ते की होती है, अर्ताथ निफ़्टी के सभी कॉन्ट्रैक्ट्स की वैधता एक निश्चित समय के लिए ही होती है , निफ़्टी के सभी कॉन्ट्रैक्ट्स को उस निश्चित समय सिमा के अंदर ही ख़रीदा और बेचा जा सकता है उसके बाद ये कॉन्ट्रैक्ट्स निष्क्रिय हो जाते है।

सामान्यतः निफ़्टी के कॉन्ट्रैक्ट्स की अवधि 1 हफ्ते की होती है यदि हमें एक हफ्ते से अधिक समय सिमा वाले कॉन्ट्रैक्ट खरीदने है, तो हम उसी हिसाब से 2 हफ्ते बाद एक्सपायर होने वाले या 3 से 4 हफ्ते बाद एक्सपायर होने वाले कॉन्ट्रैक्ट्स खरीद सकते है। जैसे :-

मान लेते है की 1 जून को निफ़्टी 9000 के स्तर (Strike) पर है और हमें 9300 के स्तर (Strike) का कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट खरीदना है, तो हमारे पास 9300 के स्तर (Strike) के लिए कुछ कॉन्ट्रैक्ट उपलब्ध रहेंगे जो अलग अलग तारीखों पर एक्सपायर होंगे जिनमें से हम अपनी पसंद के हिसाब से कॉन्ट्रैक्ट खरीद सकते हैं जैसे :-

ट्रेडिंग कॉस्ट (Trading Cost)

निफ़्टी के कॉन्ट्रैक्ट्स खरीदने और बेचने पर निफ़्टी के मूल्य के अलावा ब्रोकरेज चार्ज और टैक्स अलग से लगते है।

सभी स्टॉक ब्रॉकर ऑप्शन ट्रेडिंग में अलग अलग ब्रोक्रेज चार्जेज लेते है कुछ 20 रूपए प्रति ट्रेड लेते है तो कुछ इससे जायदा या कम भी लेते है यह ब्रोक्रेज चार्ज हमें निफ़्टी के मूल्य के अलावा चुकाने होते हैं और इन ब्रोक्रेज चार्ज पर टैक्स भी लगते है वे भी हमें चुकाने होते है इसे हम एक उदाहरण द्वारा समझ सकते है :-

मान लेते है की हमें निफ़्टी का कॉन्ट्रैक्ट खरीदना है जिसका मूल्य 10 रूपए है और ब्रोक्रेज 20 रूपए है तो हमें कुल मूल्य इस प्रकार चुकाना पड़ेगा :-

निफ़्टी मूल्य 10 x 75 = 750.00
ब्रोक्रेज 20.00
ब्रोक्रेज पर GST 18 % 3.60
चार्जेस पर GST 18 %
. 64
अन्य टैक्स मान लेते है लगभग 2.50
कुल योग 776. 74
रेटिंग: 4.27
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 578