भारत की लीडिंग क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Bitbns ने अपने ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स के लिए ऑटोमेटेड ट्रेडिंग फीचर पेश किया है.

Vauld: इस क्रिप्टो-एक्सचेंज में फंसे भारतीयों के पैसे, कंपनी ने निकासी और जमा के साथ सभी ट्रेडिंग गतिविधियों को रोका

Vauld ने कहा कि क्रिप्टो मार्केट के क्रैश होने और ट्रेडिंग वॉल्यूम में आई गिरावट के चलते उसके सामने वित्तीय मुश्किलें आ खड़ी हुई हैं, जिसके चलते उसे यह फैसला लेना पड़ा है

सिंगापुर मुख्यालय वाले क्रिप्टो-एक्सचेंज वॉल्ड (Vauld) के यूजर्स को बड़ा झटका लगा है। कंपनी ने सोमवार 4 जुलाई को एक पोस्ट में बताया कि उसने अपने प्लेटफॉर्म पर सभी तरह के जमा, निकासी और ट्रेडिंग गतिविधियों को तत्काल प्रभाव से रोक दिया है। Vauld ने कहा कि क्रिप्टो मार्केट के क्रैश होने और भारत में नियमों के कड़े होने के बाद ट्रेडिंग वॉल्यूम में आई गिरावट के चलते उसके सामने वित्तीय मुश्किलें आ खड़ी हुई हैं, जिसके चलते उसे यह फैसला लेना पड़ा है।

बता दें कि Vauld का मुख्यालय भले ही सिंगापुर में है, लेकिन इसका प्रमुख बिजनेस भारत में है। कंपनी के इस फैसले के बाद अब हजारों के यूजर्स के पैसे इस प्लेटफॉर्म पर फंस गए हैं।

कंपनी ने बताया कि उसे मौजूदा माहौल में खुद को बचाए रखने के लिए नए निवेशकों को ढूंढना और रिस्ट्रक्टरिंग की संभावनाओं पर विचार करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। Vauld में निवेश करने वाले मौजूदा निवेशकों में कॉइनबेस वेंचर्स, पेपाल के को-फाउंडर और अरबपति निवेशक पीटर थील्स की वैलार वेंचर्स, सीएमटी डिजिटल, गुमी क्रिप्टोस, रॉबर्ट लेशनर और कैडेंजा कैपिटल शामिल हैं।

संबंधित खबरें

Budget 2023: फंड स्विच करने के कैपिटल गेंस के नियमों में बदलाव करने से इनवेस्टर्स को होगा फायदा

चंदा कोचर की गिरफ्तारी बस शुरुआत, अभी कई बड़े नाम आ सकते हैं सामने: शिकायतकर्ता अरविंद गुप्ता

Union Budget 2023: बॉन्ड्स में रिटेल इनवेस्टर्स की दिलचस्पी बढ़ाने के लिए उपायों का ऐलान कर सकती हैं वित्त मंत्री

जो ग्राहक वॉल्ड के फैसले को कोर्ट में चुनौती देने की सोच रहे हैं, उनके लिए एक और झटके की बात है। वॉल्ड ने कहा कि वह इस मामले में किसी तरह के मुकदमेबाजी से बचने के लिए सिंगापुर की कोर्ट में मोराटोरियम के लिए आवेदन करने पर विचार कर रही है। मोराटोरियम के तहत कंपनी के खिलाफ किसी भी तरह का नया मुकदमा शुरू करने या पुराने मुकदमे को जारी रखने पर रोक लग जाती है। यह रोक तब तक जारी रहती है, जब तक कंपनी सभी के हितों को ध्यान में रखते हुए किसी नए प्लान का ऐलान न कर दें।

इसने एक बार फिर से क्रिप्टो-एक्सचेंजो की भूमिका को लेकर चिंताएं खड़ी कर दी हैं। क्रिप्टो-एक्सचेंज का काम ग्राहकों को ट्रेडिंग करने का मंच मुहैया कराना होता है। हालांकि क्रिप्टो-करेंसी मार्केट को लेकर दुनिया भर में नियमों की कमी के चलते क्रिप्टो-एक्सचेंज ग्राहक के कस्टोडियन के रूप में काम कर रहे हैं और उनके निवेश को भी अपने पास रख ले रहे हैं। वहीं ग्राहकों के हितों की रक्षा के लिए अभी तक कोई नियम नहीं है।

वॉल्ड ने इस ऐलान से कुछ दिनों पहले अपने 30 फीसदी कर्मचारियों को भी नौकरी से निकाल दिया था। मनीकंट्रोल ने 21 जून को प्रकाशित एक रिपोर्ट में बताया कि वॉल्ड अपने मार्केटिंग खर्च को घटाने, हायरिंग को धीमा करने, एग्जिक्यूटिव्स की सैलरी पर आने वाले खर्च को 50 फीसदी तक घटाने और वेंडर इंगेजमेंट को रोकने पर काम कर रही है।

कंपनी ने अपने पोस्ट में कहा, "हम अपने फाइनेंशियल और लीगल एडवाइजर्स के साथ मिलकर रिस्ट्रक्चरिंग पर विचार कर रहे हैं और हमारा मानना है कि हमें इस कदम से संभावित रिस्ट्रक्चरिंग विकल्पों पर मदद मिलेगी। हम वॉल्ड के ग्राहकों को यह समझाना चाहते हैं कि हम क्रिप्टो-ट्रेडिंग से जुड़े उनके किसी भी तरह के रिक्वेस्ट या निर्देशको आगे प्रॉसेस करने की स्थिति में नहीं होंगे।"

सावधान! फर्जी क्रिप्टो एक्सचेंज से भारतीय निवेशकों के 1000 करोड़ रुपये हुए स्वाहा, जानें पूरा मामला

Fake Crypto Exchange CloudSEK को एक विक्टिम ने संपर्क किया था जिसने फर्जी क्रिप्टोकरेंसी में 50 लाख रुपये (64000 डॉलर) का नुकसान उठाया है। क्लाउडसेक के संस्थापक और सीईओ राहुल ससी ने बताया कि क्रिप्टो घोटालों की संख्या में इजाफा दर्ज किया गया है।

नई दिल्ली, आइएएनएस। Fake Crypto Exchange : अगर आप क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में निवेश का प्लान बना रहे हैं, तो आपको सावधान रहने की जरूरत है। वरना आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि हाल ही में एक फर्जी क्रिप्टोकरेंसी का मामला सामने आया है, जहां फर्जी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज में निवेश के नाम पर धोखाधड़ी की गई है। एक रिपोर्ट के मुताबिक इस तरह के फर्जी क्रिप्टो एक्सचेंज के मामले में अब तक भारतीयों के करीब 128 मिलियन डॉलर (करीब 1,000 करोड़ रुपये) स्वाहा हो गए हैं।

Crypto Tokens with the Most Financial Potential in 2023 (Jagran File Photo)

फर्जी वेबसाइट पर निवेश का दिया जा रहा लालच

साइबर सिक्योरिटी कंपनी CloudSEK ने बताया कि फर्जी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के कई डोमेन्स और एंड्रॉइड बेस्ड फेक क्रिप्टो एप्लीकेशन की पहचान की गई है। जहां इस तरह फर्जी कैंपेन में बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी को अंजाम दिया जाता है। क्रिप्टो एक्सचेंज के नाम पर एक नई फर्जी वेबसाइट CoinEggg बनाई गई है, जो कि यूके बेस्ट क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज है। निवेशको को इस प्लेटफॉर्म पर निवेश के लिए तरह-तरह के लालच दिए जाते हैं।

IRCTC Cancelled Train List Today (Jagran File Photo)

फर्जी क्रिप्टो वेबसाइट में निवेश पर इनाम

CloudSEK को एक विक्टिम ने संपर्क किया था, जिसने फर्जी क्रिप्टोकरेंसी में 50 लाख रुपये (64,000 डॉलर) का नुकसान उठाया है। क्लाउडसेक के संस्थापक और सीईओ राहुल ससी ने बताया कि क्रिप्टो घोटालों की संख्या में इजाफा दर्ज किया गया है। इन मामलों में नकली डोमेन के जरिए बिल्कुल असली जैसी वेबसाइट बनाई जाती है। इसके बाद क्रिप्टो ट्रेडिंग के लिए आमंत्रित किया जाता है। इस तरह के मामलों में हमलावर पीड़ित से संपर्क करता है। इसके बाद दोस्ती का मैसेज भेजा जाता है और फिर क्रिप्टो मार्केट में निवेश के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।क्रिप्टो मार्केट में निवेश के लिए लालच के तौर पर 100 डॉलर का इनाम भी मिलता है। इस तरह से फर्जी क्रिप्टो मार्केट में निवेश की सलाह दी जाती है। वही विक्टिम को शुरुआती फायदे के बाद बेहतर रिटर्न का वादा करके बड़े निवेश कराया जाता है। इसके बाद फ्रॉड को अंजाम दिया जाता है।

एक्सचेंज क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

Partner with us for Press release distribution and get best in class service, guaranteed postings on tier 1 media and maximum reach

LBank

क्रिप्टो एक्सचेंज ने बैंगलोर, भारत में "ट्रेड अर्ली विद एलबैंक" कार्यक्रम आयोजित किया

  • Thursday, March 31, 2022 4:33PM IST (11:03AM GMT)

उपयोगकर्ताओं की एक विस्तृत श्रृंखला को आकर्षित करने के लिए भारत में एलबैंक ने शुरुआत की (फोटो: बिजनेस वायर)।

उपयोगकर्ताओं की एक विस्तृत श्रृंखला को आकर्षित करने के लिए भारत में एलबैंक ने शुरुआत की (फोटो: बिजनेस वायर)।

यह आयोजन, "ट्रेड अर्ली विद एलबैंक " थीम पर आधारित था और एलबैंक (LBank) के लिए एक बड़ी सफलता साबित हुई क्योंकि इसने भारत में अग्रणी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और क्रिप्टो से संबंधित काम करने वाले मुख्य लोगों के बीच एक क्रांतिकारी मजबूती आई।

इस मौके पर वक्ताओं में क्वायनक्रंच के सह-संस्थापक और सीटीओ स्मित, ड्राइफ (डीआरआईएफई) के सह-संस्थापक और सीईओ फिरदोश शेख, अनमार्शल के सीईओ मनोहर और एक्सेली के सीईओ संदीप सहित कई प्रमुख लोग थे जो अपनी मुख्य प्रस्तुति में असाधारण थे।

इस आयोजन की सफलता जबरदस्त रही क्योंकि एलबैंक ने पिछले कुछ दिनों में उपयोगकर्ताओं और लेन-देन की मात्रा में रिकॉर्ड वृद्धि देखी। 26 मार्च, 2022, भारत में एलबैंक समुदाय के लिए और निश्चित रूप से, एलबैंक टीम के लिए यादगार रहेगा, जो शिक्षाप्रद और मनोरंजक बैठक में उपस्थित थे।

दुबई में हाल ही में आयोजित क्रिप्टो एक्सपो इससे भी अधिक आश्चर्यजनक था। कम से कम कहने के लिए कई भारतीय विशेष रूप से एलबैंक बूथ पर अपनी खुशी दर्ज करने के लिए आए थे कि कैसे एलबैंक एक्सचेंज क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म ने पिछले छह महीनों के अपने वैश्विक अभियान और भारतीय समुदाय में गहरी दिलचस्पी ली है।

भारत वैश्विक क्रिप्टोक्यूरेंसी को अपनाने की सुविधा में अपनी जिज्ञासा और भागीदारी के अनुरूप रहा है। रिपोर्टों के अनुसार, देश में लगभग 20 मिलियन लोग 2021 में क्रिप्टो के साछ जुड़े।

इसके अलावा, क्रिप्टोक्यूरेंसी रिसर्च फर्म चेनएनालिसिस के एक सर्वेक्षण में बताया गया है कि भारत का क्रिप्टो बाजार जुलाई 2020 और जून 2021 के बीच 641% बढ़ा, जिससे यह दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ने वाले देशों में से एक्सचेंज क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म एक बन गया।

एलबैंक समूह के सह-संस्थापक और सीईओ एलन वेई (Allen Wei) ने भारतीय समुदाय को एक संसाधनपूर्ण पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण और भारत में एलबैंक को अपनाने में तेजी से वृद्धि के लिए उनकी प्रतिबद्धता को स्वीकार किया है। इसके अलावा, उन्होंने नोट किया,

"भारत हमारे लिए प्रिय समुदायों में से एक है। हम एलबैंक में रुचि लेने वाले भारतीयों की संख्या और भारत से नए उपयोगकर्ताओं की बढ़ती संख्या से सकते में हैं। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि लोगों को सर्वोत्तम मूल्य प्राप्त करने के लिए हमारा प्लैटफॉर्म शीर्ष-स्तरीय मेटावर्स, गेमफाई , डीफाई और एनएफटी टोकन की एक श्रृंखला के साथ सुरक्षित और उपयोग में आसान बना रहे।

अभी ट्रेडिंग शुरू करें: एलबैंक इंफो (lbank.info)

Automated Trading in Crypto: Bitbns ने क्रिप्टो निवेशकों के लिए पेश किया ऑटोमेटेड ट्रेडिंग फीचर, जानिए इसमें क्या है खास

Bitbns ने ऑटोमेटेड ट्रेडिंग फीचर के लिए देश में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किए जाने वाले एल्गोरिदम ऑटोमेशन प्लेटफॉर्म Tradetron के साथ करार किया है.

Automated Trading in Crypto: Bitbns ने क्रिप्टो निवेशकों के लिए पेश किया ऑटोमेटेड ट्रेडिंग फीचर, जानिए इसमें क्या है खास

भारत की लीडिंग क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Bitbns ने अपने ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स के लिए ऑटोमेटेड ट्रेडिंग फीचर पेश किया है.

Automated Trading in Crypto: भारत की लीडिंग क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Bitbns ने अपने ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स के लिए ऑटोमेटेड ट्रेडिंग फीचर पेश किया है. इस फीचर की खास बात यह है कि इसके ज़रिए ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स ऑटोमैटिक तरीके से ट्रेडिंग कर सकेंगे. Bitbns ने इसके लिए देश में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किए जाने वाले एल्गोरिदम ऑटोमेशन प्लेटफॉर्म Tradetron के साथ पार्टनरशिप की है. इस पार्टनरशिप के तहत, Bitbns का मकसद अपने यूजर्स को डिजिटल एसेट क्लास में बिना किसी दिक्कत के ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट की सुविधा प्रदान करना है. यह फीचर Tradetron और बिटबन्स प्लेटफॉर्म पर लाइव है और मौजूदा व नए यूजर्स के लिए उपलब्ध है.

जानिए इस फीचर की खासियत

ऑटोमेटेड ट्रेडिंग को Algo ट्रेडिंग के रूप में भी जाना जाता है. ऑटोमेटेड ट्रेडिंग का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यूजर्स एक पर्टिकुलर क्रिप्टो ट्रेडिंग ट्रांजेक्शन को कई इंडिकेटर्स पर एग्जीक्यूट कर सकते हैं. ऑटोमेटेड ट्रेडिंग इक्विटी ट्रेडर्स के बीच काफी लोकप्रिय तरीका रहा है. यह अब धीरे-धीरे दुनिया भर के क्रिप्टो ट्रेडर्स के बीच भी एक लोकप्रिय विकल्प बनता जा रहा है.

Stock Market Outlook: निफ्टी 1 साल में तोड़ सकता है 20000 का लेवल, साल 2023 के लिए चुनें ये 16 क्‍वालिटी शेयर

यह फीचर स्ट्रेटेजी क्रिएटर्स को अपनी रणनीतियों को ऑटोमैटिक तरीके से एग्जीक्यूट करने और उन्हें दुनिया भर के निवेशकों और ट्रेडर्स के लिए उपलब्ध कराने की अनुमति देकर सशक्त बनाता है. इसके तहत, यूजर्स को कोड लिखने की जरूरत नहीं है एक्सचेंज क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म एक्सचेंज क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और फिर भी ऑटोमैटिक तरीके से ट्रेडिंग करने के लिए एक एल्गोरिदम क्रिएट सकते हैं.

जानिए Tradetron के बारे में

Tradetron एक मल्टी-एसेट, मल्टी-करेंसी, मल्टी-एक्सचेंज है जो स्ट्रेटेजी क्रिएटर्स को वेब-बेस्ड स्ट्रेटेजी बिल्डर का इस्तेमाल करके ट्रेडिंग एल्गोरिदम बनाने की अनुमति देता है. एक बार जब यूजर एल्गोरिदम बना लेते हैं, तो इसे एक्सचेंज में लिस्ट किया जा सकता है, जहां निवेशक इसे सब्सक्राइब कर सकते हैं और उन ट्रेड्स को अपने मौजूदा ब्रोकरेज अकाउंट्स में ले सकते हैं. Bitbns के अनुसार, Tradetron देश में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाने वाला ट्रेडेड ऑटोमेशन प्लेटफॉर्म है.

बिटबन्स के फाउंडर और चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर गौरव दहाके ने कहा, “प्राइस, क्वांटिटी और टाइमिंग से संबंधित निर्देशों के एक निर्धारित सेट को फॉलो करके इस ट्रेडिंग मैकेनिज़्म में अधिक डिसिप्लिन बनाने की क्षमता है. इसके अलावा, प्लेटफॉर्म रिटेल इन्वेस्टर्स के बीच अधिक भरोसा कायम करने में मदद करेगा जो अब एक कंप्यूटर प्रोग्राम के माध्यम से बेहतर काम करने वाली रणनीति का चयन करते हुए स्मार्ट ट्रेडिंग का आनंद ले सकते हैं.”

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

डिजिटल करेंसी: खरीदना चाहते हैं क्रिप्टोकरेंसी? तो जानिए क्रिप्टो एक्सचेंज में क्या देखना है जरूरी

आप केवल अपने बैंक या निवेश फर्म से क्रिप्टो नहीं खरीद सकते। बिटक्वाइन, एथेरियम, या कोई अन्य क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए आपको क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर एक खाता बनाना होगा।

क्रिप्टोकरेंसी

अप्रैल में 64,600 अमेरिकी डॉलर (48.5 लाख रुपये) तक पहुंचने के बाद दुनिया की सबसे बड़ी और लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी, बिटक्वाइन की कीमत में भारी गिरावट देखने को मिली है। लेकिन भारत में अचानक क्रिप्टोकरेंसी की चर्चा बढ़ गई है। डिजिटल करेंसी की ट्रेडिंग में लोगों का रुझान बढ़ता जा रहा है। मौजूदा समय में बिटक्वाइन 32,640.73 डॉलर के करीब है। मालूम हो कि बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 64,829.14 डॉलर रही है।

आप केवल अपने बैंक या निवेश फर्म से क्रिप्टो नहीं खरीद सकते। बिटक्वाइन, एथेरियम, या कोई अन्य क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए आपको क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर एक खाता बनाना होगा। सही क्रिप्टो एक्सचेंज चुनना बेहद अहम है।

क्या है क्रिप्टो एक्सचेंज?
क्रिप्टो एक्सचेंज एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां से आप क्रिप्टोकरेंसी खरीद और बेच सकते हैं। एक्सचेंज उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली क्रिप्टोकरेंसी की मौजूदा बाजार कीमतों को दर्शाते हैं। एक्सचेंज के जरिए आप एक क्रिप्टोकरेंसी के बदले दूसरी क्रिप्टोकरेंसी, जैसे बिटक्वाइन के बदले लाइटक्वाइन खरीद सकते हैं या क्रिप्टोकरेंसी को अमेरिकी डॉलर या कियी अन्य मुद्रा से भी खरीद सकते हैं। अपने खाते में पैसे रखने के लिए आप क्रिप्टो को दोबारा डॉलर में भी बदल सकते हैं।

क्रिप्टो एक्सचेंज में क्या देखना जरूरी?

  • स्थान- राज्य या राष्ट्रीय नियमों के कारण आपकी लोकेशन आपको कुछ एक्सचेंजों पर क्रिप्टो खरीदने और बेचने से रोक सकती है। जैसे चीन ने नागरिकों के लिए क्रिप्टोकरेंसी खरीदने पर प्रतिबंध लगाया है। संयुक्त राज्य में कुछ राज्यों ने अपने स्वयं के नियम बनाए हैं। जैसे न्यूयॉर्क में एक्सचेंज के लिए बिटलाइसेंस प्राप्त करना आवश्यक है और केवल लाइसेंस प्राप्त कंपनियों को कुछ स्वीकृत सिक्कों की पेशकश करने की अनुमति है। अधिकांश अन्य राज्यों में न्यूयॉर्क की तरह सख्त नियम नहीं हैं।
  • सुरक्षा- क्रिप्टोकरेंसी किसी भी केंद्रीय संस्थान द्वारा समर्थित नहीं है, और आपकी क्रिप्टोकरेंसी होल्डिंग्स बैंक में पैसा या पारंपरिक निवेश की तरह सुरक्षित नहीं हैं। कुछ एक्सचेंज, जैसे क्वाइनबेस और जेमिनी, एफडीआईसी बीमाकृत बैंक खातों में आपके द्वारा रखे गए अमेरिकी डॉलर में शेष राशि रखते हैं। लेकिन एफडीआईसी बीमा क्रिप्टोकरेंसी बैलेंस पर लागू नहीं होती है। क्रिप्टो की सुरक्षा के लिए, कुछ एक्सचेंजों के पास हैकिंग या धोखाधड़ी से एक्सचेंज के भीतर मौजूद डिजिटल मुद्राओं की सुरक्षा के लिए बीमा पॉलिसी होती हैं।
  • फीस- फीस पर विचार करना भी अहम है। एक्सचेंज आपके लिए क्रिप्टो खरीदना जितना आसान बनाते हैं, आपको उतने ही अधिक शुल्क का भुगतान करना पड़ सकता है। विनिमय शुल्क एक निश्चित मूल्य हो सकता है, लेकिन अक्सर यह आपके व्यापार का एक फीसदी होता है। कुछ एक्सचेंज, जैसे कैश एप का शुल्क मूल्य अस्थिरता के आधार पर घटता या बढ़ता है। शुल्क अक्सर प्रति लेन-देन के लिए लिया जाता है। यह भिन्न भी हो सकता है। इसलिए यह सुनिश्चित करें कि एक्सचेंज आपके क्रिप्टो लेनदेन के लिए आपसे कैसे और कब चार्ज करता है।
  • लिक्विडिटी- यदि आप अपने क्रिप्टो को खरीदने, बेचने या व्यापार करने की योजना बनाते हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके द्वारा चुने गए एक्सचेंज में ट्रेड वॉल्यूम हो। इससे आपकी होल्डिंग की लिक्विडिटी पता चलेगी और आप जब चाहें क्रिप्टो बेच सकेंगे। अक्सर, अधिक लोकप्रिय एक्सचेंज वे होते हैं जिनके व्यापार की मात्रा सबसे अधिक होती है।

विस्तार

अप्रैल में 64,600 अमेरिकी डॉलर (48.5 लाख रुपये) तक पहुंचने के बाद दुनिया की सबसे बड़ी और लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी, बिटक्वाइन की कीमत में भारी गिरावट देखने को मिली है। लेकिन भारत में अचानक क्रिप्टोकरेंसी की चर्चा बढ़ गई है। डिजिटल करेंसी की ट्रेडिंग में लोगों का रुझान बढ़ता जा रहा है। मौजूदा समय में बिटक्वाइन 32,640.73 डॉलर के करीब है। मालूम हो कि बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 64,829.14 डॉलर रही है।

आप केवल अपने बैंक या निवेश फर्म से क्रिप्टो नहीं खरीद सकते। एक्सचेंज क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म बिटक्वाइन, एथेरियम, या कोई अन्य क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए आपको क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर एक खाता बनाना होगा। सही क्रिप्टो एक्सचेंज चुनना बेहद अहम है।

क्या है क्रिप्टो एक्सचेंज?एक्सचेंज क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म
क्रिप्टो एक्सचेंज एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां से आप क्रिप्टोकरेंसी खरीद और बेच सकते हैं। एक्सचेंज उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली क्रिप्टोकरेंसी की मौजूदा बाजार कीमतों को दर्शाते हैं। एक्सचेंज के जरिए आप एक क्रिप्टोकरेंसी के बदले दूसरी क्रिप्टोकरेंसी, जैसे बिटक्वाइन के बदले लाइटक्वाइन खरीद सकते हैं या क्रिप्टोकरेंसी को अमेरिकी डॉलर या कियी अन्य मुद्रा से भी खरीद सकते हैं। अपने खाते में पैसे रखने के लिए आप क्रिप्टो को दोबारा डॉलर में भी बदल सकते हैं।

क्रिप्टो एक्सचेंज में क्या देखना जरूरी?

    स्थान- राज्य या राष्ट्रीय नियमों के कारण आपकी लोकेशन आपको कुछ एक्सचेंजों पर क्रिप्टो खरीदने और बेचने से रोक सकती है। जैसे चीन ने नागरिकों के लिए क्रिप्टोकरेंसी खरीदने पर प्रतिबंध लगाया है। संयुक्त राज्य में कुछ राज्यों ने अपने स्वयं के नियम बनाए हैं। जैसे न्यूयॉर्क में एक्सचेंज के लिए बिटलाइसेंस प्राप्त करना आवश्यक है और केवल लाइसेंस प्राप्त कंपनियों को कुछ स्वीकृत सिक्कों की पेशकश करने की अनुमति है। अधिकांश अन्य राज्यों में न्यूयॉर्क की तरह सख्त नियम नहीं हैं।

रेटिंग: 4.75
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 324